अपराध रिकॉर्ड

गुमशुदा व अपहरित व्यक्तियों का विवरण / Missing & Kidnapped persons

ALL INDIA DIRECTORY (01/01/2014 TO 31/12/2014)
MISSING AND KIDNAPPED DIRECTORY (01/01/2014 TO 31/12/2014)

इस प्रभाग का मुख्य उद्देश्य राज्य / संघ शासित पुलिस प्राधिकार से मासिक रिटर्न के आधार पर विभिन्न अपराधों, अपराधियों, लापता व्यक्तियों तथा प्रापर्टी पर सूचना एकत्र करना, संकलित एवं प्रसारित करना है । यह स्टोर (संकलित) किया गया डाटा गुमशुदा तथा लापता संपत्ति / व्यक्तियों जैसे मोटर वाहनों, आग्नेयास्त्रों एवं लापता व्यक्तियों के समन्वय हेतु प्रयोग किया जाता है । ये परिणाम विभिन्न जिला पुलिस अधीक्षकों को डाक / ई-मेल के माध्यम से संप्रेषित किये जाते है । यह डाटा दिल्ली के भीतर विभिन्न यातायात प्राधिकारियों को वाहन सत्यापन रिपोर्ट प्रदान करने के लिए भी प्रयोग किया जाता है ।


तलाश

तलाश से संबंधित डाटा का गिरफ्तार व्यक्तियों, घोषित अपराधी (WANTED), गुमशुदा, व्यपहृत व्यक्तियों, भगोड़े, लापता व्यक्तियों और लापता शवों के समन्वय के लिए प्रयोग किया जाता है। तदुनसार समन्वय के मामले में संबंधित प्राधिकारियों को सूचित किया जाता है ।


मुद्रा कूटकरण

देश में परिचालन (बरामद / जब्त) में कूटकरण मुद्रा पर डाटा आरबीआई (भारतीय रिजर्व बैंक) की 19 शाखाओं और राज्य / संघ शासित पुलिस प्राधिकारियों से इकट्ठा किया जाता है । संसदीय प्रश्नों के लिए तथा अन्य एजेंसियों के साथ संझा करने के लिए इन्ही आकड़ों पर आधारित प्रत्युत्तर तैयार किये जाते हैं ।


मोटर वाहन समन्वय प्रणाली

सभी हितधारकों को रीयल टाइम मोड में तत्काल, सक्षम, विश्वसनीय तथा गुणवत्तापूर्ण सेवा प्रदान करने के अपने प्रयास में राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो द्वारा मार्च 2014 में "वाहन समन्वय" के नाम से मोटर वाहन समन्वय ई-सेवा का आरंभ किया है । वाहन समन्वय एक उत्कृष्ट नागरिक केंद्रित अंतराफलक प्रदान करता है जिसमें पूर्व स्वामित्व वाले वाहन या चुराए गए वाहन की बरामदगी की स्थिति के लिए बातचीत करने से पहले कोई भी मोटर वाहन (चोरी होने वाले या नहीं) की स्थिति का सत्यापन कर सकता है । यह वाहन समन्वय प्रणाली पुलिस को चोरी किए गए / बरामद वाहन का विवरण ऑन-लाइन फीड करने के लिए सक्षम बनाता है। पुलिस के अतिरिक्त आरटीओ (क्षेत्रीय यातायात कार्यालय / मोटर वाहन पंजीकरण कार्यालयों) तथा बीमा कम्पनियां भी वाहन के बारे में पूछताछ कर सकती है । चूंकि वाहन समन्वय प्रणाली रीयल टाइम वातावरण में कार्य करती हैं, जब भी पुलिस कार्यालय द्वारा मोटर वाहन का विवरण अद्यतन किया जाता है, यह सभी प्रयोक्ताओं के लिए तुरंत दृश्यमान हो जाता है, यह विशेषता न केवल विधि प्रवर्तन एजेंसियों के लिए उपयोगी है बल्कि चुराये गए वाहनों के अवैध लेन-देन पर नियंत्रण करने के लिए एक तंत्र भी प्रदान करती है जैसे किसी वाहन के स्वामित्व का हस्तांतरण करने से पहले वाहन की स्थिति का सत्यापन भी आरटीओ (क्षेत्रीय यातायात कार्यालय) द्वारा किया जा सकता है ।

वाहन समन्वय प्रणाली में दिनांक 03.12.15 के अनुसार 12,78,375 चुराये गए / बरामद मोटर वाहन है, जो निरंतर बढ़ रहे हैं । विभिन्न राज्यों / संघ शासित प्रदेशों की पुलिस द्वारा दिनांक 01.01.2014 से 03.12.2015 की अवधि के दौरान 1,53,576 (दोनों ही चुराये गए तथा बरामद) मोटर वाहनों की डाटा प्रविष्टि हुई है, इसी प्रकार विभिन्न राज्यों / संघ शासित प्रदेशों के आरटीओ द्वारा इस अवधि के दौरान 88,238 मोटर वाहनों का ब्योरा ऑन लाइन सत्यापित किया गया है । वाहन समन्वय प्रणाली को सामान्य जनता से अत्यधिक प्रतिक्रिया मिली है और इस अवधि के दौरान उनके द्वारा कुल 15,08,454 प्रश्न किये गए हैं । यह सेवा निःशुल्क प्रदान की जाती है । मोटर वाहन पूछताछ सेवा, राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो, दिल्ली द्वारा प्रचालित पूछताछ काउंटर के माध्यम से भी उपलब्ध है तथा देश में अन्य स्थानों पर विभिन्न राज्य / संघ शासित पुलिस संगठनों द्वारा सेवा शुल्क के बदले प्रचालित की जाती है । इन काउंटरो पर इस अवधि के दौरान कुल 1,60,582 प्रश्नों का जवाब तैयार किया गया है।


पोरट्रेट बिल्डिंग प्रणाली

पीबीएस (पोरट्रेट बिल्डिंग प्रणाली ) के तहत प्रत्यक्षदर्शियों (गवाहों) द्वारा दिये गए विवरण के आधार पर दोषियों की तस्वीरें तैयार कर के रा. अ. रि. ब्यूरो के राज्यों / संघ शासित प्रदेशों की पुलिस के जाँच अधिकारियों (आईओ), केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो एवं अन्य एजेंसियो की सहायता कर रहा है । कुछ संवेदनशील मामलों में भी तस्वीरें तैयार की गई है जिनके अत्यंत उत्साहजनक परिणाम आये हैं । रा. अ. रि. ब्यूरो ने अभी तक 3079 तस्वीरें तैयार की है । यह सुविधा सभी राज्य अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो तथा जिला अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो में भी उपलब्ध हैं ।